Siddhi Vinayak Mandir

Siddhi Vinayak Mandir – सिद्धि विनायक मंदिर का इतिहास

Loading

Siddhi Vinayak Mandir – भारत के सबसे धनी मंदिरों की लिस्ट में गिना जाने वाला सिद्धि विनायक मंदिर आज पुरे विश्व भर में प्रसिद्ध है, यहाँ लाखो की संख्या में दूर दूर से श्रद्धालु दर्शन करने आते है , यहाँ आम लोगो के साथ इस मंदिर में नेता, राजनेता और बड़े सितारे यह दर्शन करते हुए नजर आते हैं।

Siddhi Vinayak Mandir

सिद्धि विनायक मंदिर – Siddhi Vinayak Mandir

मुंबई में स्थित सिद्धि विनायक मंदिर, जो गणपति बप्पा को समर्पित है, अक्सर हम सुनते आए है की गणपति बप्पा को विघ्नहर्ता और दुखहर्ता भी कहा जाता है। इसे के चलते लोगो के मन में मान्यता देखने को मिलती और इसी मान्यता के चलते मंदिर में हमेशा बप्पा के दर्शन करने के लिए लोगो की भीड़ देखने को मिलती है। लोग अपनी मनोकामना लेकर और अपने जीवन के दुखो को दूर करते हैं और अपना विश्वास बप्पा में और अटूट करते हैं। इसी तरह हर एक पवित्र स्थान अपने में कुछ खास बातो को समेटे हुए हैं। तो आइए जानते है सिद्धिविनायक की खूबसूरती और उसकी रोचक बातो के बारे में।

सिद्धि विनायक मंदिर 18 नवंबर 1801 में बनवाया गया था। यह निर्माण एक ठेकेदार द्वारा किया गया था, साथ ही इस मंदिर का निर्माण में एक किसान महिला ने अपना योगदान दिया था, अपको बता दे की, ऐसा कहा जाता है की यह किसान महिला की कोई संतान नहीं थी, जिसके चलते यह महिला ने राशि का योगदान देकर मंदिर के निर्माण में कार्य किया था।

सिद्धि विनायक मंदिर की आस्था

जैसे की हमने आपको बताया की इस किसान महिला की कोई संतान न होने के कारण, वह चाहती थी की कोई भी महिला उनके तरह दुखी न हो, जिसके चलते उन्होंने इस मंदिर का निर्माण, इस आस्था से करवाया था की जो भी नया जोड़ा अपनी संतान की मुराद लेकर आएगा। उसकी झोली कभी खाली नही जायेगी। इसी आस्था के चलते जो जोड़ा संतान के सुख से अप्रचित रहते है, वह अपनी मुराद के साथ यहां सच्चे मन से दर्शन करने आते है। और अपनी झोली भर के जाते हैं।

सबसे अमीर मंदिर में से है सिद्धि विनायक मंदिर

सिद्धि विनायक मंदिर को अमीर मंदिरों में से एक मंदिर माना जाता हैं। यहाँ पर हर साल लाखो करोड़ों रुपए की राशि का चढ़ावा चढ़ता हैं। बताया जाता है की मंदिर में हर साल 10 से 15 करोड़ की राशि दान की जाती है।

सिद्धि विनायक मंदिर में दिखाई देगी हनुमान जी की मूर्ति

सिद्धि विनायक मंदिर में हनुमान मूर्ति का भी इतिहास है ऐसा कहा जाता है की जब मंदिर के लिए सड़क चौड़ी की जा रही थी तो उस दौरान पंडित जी को हनुमान जी की मूर्ति मिली थी। जिसके बाद उन्होंने उस मूर्ति को सिद्धिविनायक मंदिर में गणेश जी की मूर्ति के साथ स्थापित किया। आज जो भी लोग यहां बप्पा के दर्शन करने आते हैं वे साथ में हनुमान जी के दर्शन भी जरूर करते है। और अपको बता दे, की सिद्धि विनायक मंदिर मंगलवार की आरती के लिए भी काफी प्रसिद्ध हैं और इस दिन लोगो की काफी लंबी लाइन भी देखने को मिलती हैं।

Siddhi Vinayak Mandir
बप्पा की मूर्ति का दृश्य

यह मंदिर अपने में ही बेहद खास है। जिसके चलते इसकी सुंदरता में बप्पा की मूर्ति चार चांद लगाती है तो ऐसे में बप्पा की मूर्ति में चार हाथ दर्शाए गए है जिसमे एक हाथ में कमल, दूसरे हाथ में कुल्हाड़ी, तीसरे हाथ में लड्डू और और चौथे हाथ में मोतियों की माला। इस मूर्ति को काले पत्थर द्वारा बनाया गया है जो देखने में काफी खूबसूरत और आकर्षित है बप्पा की मूर्ति अपनी पत्नियों रिद्धि सिद्धि द्वारा घिरे हुए दिखाई दे रहे है।

मंदिर जाने का सही समय

अगर आप सिद्धि विनायक मंदिर के दर्शन करने का सोच रहे हैं तो ऐसे में हम आपको बताएंगे की किस मौसम में आप मुंबई जाकर दर्शन कर सकते है, जैसे की हम जानते है की मुंबई का मौसम गर्म रहता है तो ऐसे में आप गर्मी के मौसम में न जाकर, अक्टूबर से फरवरी के मौसम में अवश्य जाएं। जिस दौरान आप बप्पा के दर्शन बिना किसी परेशानी के और अच्छी तरह कर पाएंगे। अब बात आती है यात्रा की बप्पा के मंदिर में यात्रा करने का सही समय दोपहर का है, जिस दौरान वहा भीड़ कम होती है और आप अच्छे से और जल्दी बप्पा के दर्शन कर पाएंगे।

इनके अलावा सिद्धि विनायक मंदिर में नवरात्रि, विनायक चतुर्थी, गुडी पड़वा अक्षय तृतीया, राम नवमी, नाग पंचमी व इत्यादि ऐसे कई त्योहार बड़े धूम धाम से मनाए जाते है, आप लोग इन त्योहारों के दिन भी जाकर दर्शन कर सकते और वहा का आकर्षित नजारा देख सकते हैं।

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

1Shares

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *