Writer, Inspiring The World | Inspiring Quotes | Motivation | Positivity

Manpreet Singh-मनप्रीत सिंह जीवन परिचय

Loading

Manpreet Singh-मनप्रीत सिंह-मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है

सभी अपने जीवन लक्ष्य में सफल होना चाहते है लेकिन सफल वही होता है जो निरंतर मेहनत करता है परेशानियों से घवराता नही है इसी हौसले को लिए 9 साल की उम्र से पंजाब में एक खिलाडी तैयारी कर रहा था अपने सपने भारतीय होकी की टीम में अपनी जगह बनाने लिए मेहनत कर रहा था, वो कहते है की सफलता कोई ओडर किया हुआ पिज़ा नही है जो 20 मिनिट में मिल जाएगी, सफलता समय मागती है आज ऐसे ही व्यक्ति के बारे में बात करेगे l

Manpreet Singh Biography

(Manpreet Singh) मनप्रीत सिंह का जीवन परिचय

मनप्रीत का पूरा नाम मनप्रीत सिंह पवार है इनका जन्म 26 जून 1992 को भारत के पंजाब में जालंधर जिले के एक छोटे से ग्राम मीठापुर में हुआ था इनके पिता जी का नाम बलजीत सिंह पेशे से एक किसान हैं इनकी माता का नाम मंजीत कौर जो एक गृहणी है दो भाई अमरदीप सिंह और सुखराज सिंह है मनप्रीत के जीवन साथी का नाम नवनीत कौर और एक बेटी है सभी एक साथ मिल जुल कर रहते है ,
नाम – मनप्रीत सिंह पवार
पिता का नाम – बलजीत सिंह
माता का नाम – मंजीत कौर
भाई का नाम – अमनदीप सिंह और सुखराज सिंह
पत्नी का नाम – नवनीत कौर

नाममैनप्रीत सिंघ
जन्म तिथि26 जून, 1992
राष्ट्रीयताभारतीय
पदमध्यखेल खिलाड़ी
ऊंचाई5 फीट 9 इंच (175 सेमी)
वजन150 पाउंड (68 किलोग्राम)
टीमेंभारतीय राष्ट्रीय टीम
पंजाब वॉरियर्स (HIL)
रांची रे (HIL)
दिल्ली वेवराइडर्स (HIL)
उपलब्धियाँओलंपिक खेल – कांस्य (2021)
एशियाई खेल – स्वर्ण (2014)
एशियाई चैंपियन्स ट्रॉफी – स्वर्ण (2016, 2018)
एफआईएच मेन्स हॉकी वर्ल्ड लीग – रजत (2016-17)
सुल्तान अज़लान शाह कप – रजत (2017, 2018)
एफआईएच हॉकी प्रो लीग – रजत (2020-21)
red bull athlete manpreet s

मनप्रीत सिंह की शिक्षा

मनप्रीत ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा हाई स्कूल पंजाब के जालंधर से किया था , स्नातक की शिक्षा विनायक मिशन यूनिवर्सिटी पंजाब से ही पूरी की ,
मनप्रीत पढाई तो करते थे लेकिन उनका मन होकी खेलने में रहता था, इन्होने 9 साल की उम्र से हॉकी खेलना शुरू किया और लगभग 2002 से साल 2005 तक मनप्रीत सिंह ने सुरजीत हॉकी अकादमी से प्रशिक्षण लिया जो पंजाव के जालंधर में स्थित है l

मनप्रीत सिंह का हॉकी करियर

9 साल की उम्र से कर रहे होकी की तैयारी में साल 2011 में मनप्रीत सिंह को पहली बार भारतीय जूनियर हॉकी टीम का हिस्सा बनने का मौका मिला तथा अपने खेल का प्रदर्शन दिखने के लिए अंतरराष्ट्रीय हॉकी टीम में पदार्पण किया । कुछ समय बाद मनप्रीत सिंह को साल 2013 में मैन जूनियर हॉकी वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया l


2014 में दक्षिण कोरिया के इचियोन में आयोजित एशियाई खेलों में वह भारत की मेन हॉकी टीम का हिस्सा थे जहां मनप्रीत सिंह ने अपने शानदार प्रदर्शन से फाइनल में पाकिस्तान को 4-2 से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया , साल 2016 लंदन में मैन हॉकी चैंपियन ट्रॉफी में अपने शानदार प्रदर्शन दिखाते हुए मनप्रीत सिंह ने भारत को रजत पदक दिलाया और भारत ने 38 साल बाद फाइनल में जगह बनाई थी l

इनकी कप्तानी में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई ।
6 अप्रैल 2016 जापान बनाम भारत शाह कप में प्रथम मैच के दौरान उन्हें अपने पिता की मृत्यु का समाचार मिला जिस कारण उन्हें भारत आना पड़ा फिर अंतिम संस्कार कर अपने पिता का मां के कहने पर भारत को तथा देश को गौरवान्वित करने के लिए टीम से फिर जुड़े और भारत ने टूर्नामेंट में दूसरा स्थान प्राप्त किया।

मनप्रीत सिंह की अगुवाई में भारतीय टीम 2020 टोक्यो ओलंपिक खेल, जो कि 2021 में टोक्यो में आयोजित हुआ अपने खेल का प्रदर्शन दिखने के लिए भारतीय टीम टोक्यो के लिए रवाना हुई , जिसके ग्रुप चरण में ऑस्ट्रेलिया से हारने के बाद भारत ने लगातार स्पेन अर्जेंटीना जापान को हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई, इसके बाद भारतीय टीम ने ब्रिटेन को 3-1 से हराकर सेमीफाइनल का रास्ता तय किया लेकिन भारत को बेल्जियम से हार का सामना करना पड़ा और भारत ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक प्राप्त किया 1980 के बाद ओलंपिक में भारतीय टीम ने पोडियम पर फिनिश किया टूर्नामेंट टोक्यो ओलंपिक में।

Manpreet Singh-मनप्रीत सिंह ने अपने जीवन में पुरुष्कार प्राप्त किये

वर्ष 2014 में एशियाई हॉकी फेडरेशन द्वारा जूनियर प्लेयर ऑफ द ईयर का पुरस्कार मिला।
वर्ष 2015 में एशियाई हॉकी संघ द्वारा सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार लिया
वर्ष 2018 में अर्जुन पुरस्कार लिया
वर्ष 2019 के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के लिए हॉकी इंडिया ध्रुव बत्रा पुरस्कार।
वर्ष 2019 राज्य पुरस्कार महाराजा पुरस्कार प्राप्त किया ।
वर्ष 2019 FIH प्लेयर ऑफ द ईयर अवार्ड मिला ।
व्हाट 2001 किस मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार भारत का सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया गया

मनप्रीत सिंह से भारतीय आशा करते है आगे भी अपने देश का नाम रोशन करेगे

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

0Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *