Writer, Inspiring The World | Inspiring Quotes | Motivation | Positivity

Hindi Moral Stories

Motivational Stories

Motivational Stories – संघर्ष ही जीवन है !

Loading

Motivational Stories

Motivational Stories – words of encouragement
वो मुश्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा , जो चल रहा है उसके पाव में छाला होगा, बिना संघर्ष के इंसान चमक नहीं सकता जो जलेगा उसी दिए में उजाला होगा l
संघर्ष……क्यों बचे संघर्ष से , संघर्ष ही तो जीवन की आत्मा है जितना कठिन संघर्ष होगा उतनी ही शानदार जीत होगी l

एक बार की बात है सहसपुर गांव में एक किसान रहता था जो बहुत ही मेहनती था, लेकिन एक दिन की बात है वह किसान भगवान से बहुत नाराज हो गया l क्योंकि वह किसान बहुत म्हणत से खेतो में आनाज उगता उसकी देखभाल करता पर लेकिन अक्सर उसकी फसल किसी न किसी कारण से ख़राब हो जाती , कभी सुखा पड़ जाता तो कभी बाढ़ आ जाती , कभी तेज धुप तो कभी आंधी उसकी फसल को खराब कर देती l

इन सभी चीजो के चलते वह किसान बहुत परेशन हो गया और गुस्से में आसमान की और देख कर भगवान से बोला , हे ईश्वर आपको लोग सर्वज्ञाता मानते है , मानते है की आप सब जानते है कहते है की आपकी इच्छा के बिना एक पत्ता तक नहीं हिलता पर मुझे लगता है की आप छोटी सी छोटी बात भी नहीं जानते l

आपको तो ये भी पता की खेती बाड़ी कैसे करते है अगर आपको सब ज्ञात है तो बे मौसम बे वजह आंधी और तूफान कभी नहीं आते l आप को बिलकुल भी अनुमान नहीं की इन सब परेशानियों से हम किशानो को कितना नुकशान उठाना पड़ता है , यदि आप मेरे हाथ में यह शक्ति दे दे की जैसा मैं चाहू वैसा मैं मौसम कर सकू , तो फिर आप देखना की मैं अन्न के भंडार भर दूंगा l

Motivational Stories – words of encouragement

भगवान इस किसान के तीखे वाक्य सुनकर मुश्कुरा रहे थे और वह किसान के सामने प्रकट होकर बोले , “मैं से तुम्हे ये शक्ति देता हूँ ” की तुम अपनी इच्छा के अनुसार मौसम को बदल पाओगे और उसमे में बिलकुल भी दखल नहीं दूंगा , सब कुछ तुम्हारी इच्छा के अनुसार होगा, यह सुन कर किसान बहुत खुश हो जाता है l

उसके पश्चात , अगले दिन किसान से गेहूं की फसल खेतो में बोई , जब उसे लगा की फसल को धुप की जरुरत है तो उसने धुप दी, जब पानी बरसना चाहिए तभी पानी भी बरसा, आंधी, तूफान , बाढ़ कुछ भी उसने अपने खेतो पर आने नहीं दी, जिसके चलते इस वर्ष उसकी ऐसी फसल हुई जैसी कभी नहीं हुई थी l

हरी भरी और लहलहाती फसल देख किसान मन ही मन बहुत खुश हुआ , और सोचने लगा अब भगवान को दिखाऊंगा की शक्ति का सही उपयोग कैसे करते है , उन्हें मेरी सफलता देख कर अपने नियम जरुर बदलने पड़ेंगे l कुछ दिन गुजरे फसल कटने को तैयार हो गई , किसान बहुत ही उत्सुकता के साथ फसल काटने को खेत में गया , लेकिन जैसे ही उसकी नजर नेहूँ की बालियों पर पड़ी तो उसने अपना सिर पीट लिया और वह रोने चिल्लाने लगा l

गेहूं की एक भी बाली के अन्दर गेहूं का दाना नहीं था सारी बालिया अन्दर से खाली थी, यह सब देख किसान बहुत दुखी हो गया और उसने रोते हुए भगवान को फिर पुकार लगाई, ” हे प्रभु तुमने मेरे साथ ये क्या किया, मुझे किस बात की सजा दी है” भगवान बोले ” पुत्र ये तो होना ही था तुमने पोधो को संघर्ष करने का मौका ही नहीं दिया , न तो तुमने उन्हें आँधियों से जुझने दिया , न ही तेज बारिस को सहने दिया और न ही धूप में तपने दिया l तुमने एक भी चुनौती का सामना उन्हें करने नहीं दिया, इसलिए सारे पौधे अन्दर से खोखले रह गए l

Motivational Stories – words of encouragement

जब आंधी, तूफान, तेज बारिस , और धुप पड़ती है तभी ये पौधा अपने अस्तित्व को बचाने के लिए संघर्ष करते है और इसी संघर्ष से एक बाल पैदा होता है जिसमे शक्ति होती है , उर्जा होती है और यही उर्जा गेहू के दानो के रूप में फूटती है , लेकिन तुम्हारी नादानी की वजह से ऐसा नहीं हो पाया , सभी बालियाँ इसलिए खाली है क्योंकि तुमने पौधों को संघर्ष नहीं कराया l

याद रखिये, स्वर्ण में स्वर्णीय आभात तभी आता है जब वह आग में तपने , गलने और हथोड़े से पिटने जैसे संघर्षो से गुजरता है, कोयले का टुकड़ा हीरा तभी बनता है जब वह उच्च दाब और उच्च ताप की मुश्किल परिश्तिथियों से गुजरता है , इसी तरह यदि हमारे जीवन में भी कोई संघर्ष या चुनौती नहीं होगी तो हम भी गेहू की बालियों की तरह खोखले रह जाएंगे और समाज में हमारा कोई अस्तित्व नहीं होगा l

हमारे जीवन में आने वाली विपरीत परिस्तिथियाँ , चुनौतियाँ और समस्याएँ हमें निखारती है , यदि जीवन में कठिन परिस्तिथियाँ और चुनौतियाँ आये तो घबराना मत बल्कि उनका डट कर सामना करना, और स्वयं पर पूरा विश्वास रखना , जीवन के उतार चड़ाव आपको और अधिक मजबूत बना देंगे l

Weight Loss Motivation

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

Weight Loss Motivation

Motivational Stories – संघर्ष ही जीवन है ! Read More »

Self Improvement

Self Improvement – आत्म – सुधार सफल जीवन के मंत्र

Loading

Self Improvement- आत्म-सुधार या आत्म-विकास एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो व्यक्ति को उन्नति और समृद्धि की ओर ले जाती है। यह बात तो सच है की कोई भी व्यक्ति अपने आप में परिपूर्ण (परफेक्ट) नही होता। वही कुछ लोग अपने भविष्य के सकारात्मक बदलाव के लिए आत्म सुधार करते है l

लेकिन कई बार ऐसा मोड़ भी आता हैं की जीवन में आई परस्थितियों के सामने खुद को झुकाने के लिए व्यक्ति मजबूर हो जाता हैं। और अपना आत्मविश्वास तोड़ बैठता हैं । तो आज हम आपको इस लेख में कुछ ऐसी बाते बताएंगे। जिससे आप खुद में सुधार ला सकते है और जीवन में आने वही हर तरह की परस्थितियों का डट के सामना कर सकते हैं।

Self Improvement

आत्म-सुधार का क्या अर्थ है

(Self improvement) यानी आत्म-सुधार जो दो शब्दो से मिल कर बना हैं। जो पहला शब्द है आत्म यानी “खुद” और दूसरा शब्द है सुधार यानी “परिवर्तन”। यह दो शब्दो से बना अर्थ आत्म-सुधार । जिसका मतलब की एक व्यक्ति खुद के प्रयासों से खुद के अंदर सुधार लाने की कोशिश करता हैं। जिसे हम आत्म सुधार कहते है। आज कल हर क्षेत्र में व्यक्ति खुद को परफेक्ट बनाना चाहता है। जो हर व्यक्ति के लिए बेहद जरूरी भी हैं।

क्यों जरूरी है आत्म– सुधार

हर व्यक्ति अपने जीवन में खुद को दूसरे से बेहतर बनाना चाहता हैं। जिससे वह अपने आप को और अपने मानसिक तनाव को कम कर सके। आज के समय में हर व्यक्ति इतनी भाग दौड़ भरी जिंदगी में फस चुका हैं। की वो अपने अंदर बहुत सी बुरी आदतों को अपना चुका है। जिसके चलते वह अपने जीवन में बुरी आदतों को खत्म करना चाहता हैं। और अपने रिश्तों को सुधारना चाहता हैं। इसी के चलते हर व्यक्ति को अपनी जिंदगी में आत्म सुधार लाना आवश्यक हैं।

कैसे करे आत्म-सुधार

1. आदत में लाना होगा सुधार

जैसे की हम सब जानते हैं। की एक बेहतर इंसान बनने के लिए सबसे पहले हमे हमारी कुछ बुरी आदतों को सुधारना होगा। जो हमारा आत्म सुधार की और पहला कदम होगा। अगर हम अपनी बुरी आदतों को सुधारेंगे तो हम एक बेहतर मनुष्य बन पाएंगे। जिससे हमारे अंदर सकारात्मक सोच उत्पन होगी। जिससे हम अपने आप को पूरा दिन एक स्वस्थ व्यक्ति की तरह महसूस करेंगे।

2. सेहत का देना होगा ध्यान।

कहा जाता है की सबसे सुखी इंसान वही है जिसका स्वास्थ्य बेहतर हो। और एक बेहतर स्वास्थ्य के लिए इंसान को अपने जीवन में सुबह जल्दी उठ कर व्यायाम करना चाहिए और देर से सोने की आदत को खत्म करना चाहिए। जिससे हम अपने जीवन पे सेहत पे ध्यान दे पाएंगे और एक बेहतर इंसान बन पाएंगे।

3. कारात्मक लोगो से जुड़े

यह कहावत आप सभी ने जरूर सुनी होगी। की जैसी संगत वैसी रंगत , अगर एक व्यक्ति को अपने जीवन में आत्म सुधार लाना है तो उसे सबसे पहले अपने आस पास ऐसे लोगो को रखना होगा जो सकारात्मक सोच रखते होंगे। जिससे आप अपने जीवन में हमेशा सकारात्मक सोच पाएंगे और एक अच्छी दिशा की और चलेंगे।

4. खुद पर रखे भरोसा

खुद पर भरोसा रखना एक सफल व्यक्ति के जीवन का राज हैं। क्या आप लोग जानते है, की अगर हम खुद पर भरोसा रख सकते है तो जीवन में आई हर परस्थितियों को पार कर सकते हैं। एक व्यक्ति को अपने जीवन में आत्म-सुधार लाने के लिए सबसे पहले खुद पे भरोसा करना सीखना होगा। जिससे हम प्रथम स्तर प्राप्त कर सकते हैं।

5. हमेशा सीखते रहो

कहते है की जीवन में कही से भी कुछ सीखने को मिले तो उस अवसर को कभी गवना नही चाहिए। अगर आप लोग अपनी जिंदगी में आत्म सुधार लाना चाहते हैं तो जिंदगी कभी भी सीखने की लालसा को खत्म नहीं करना चाहिए। अगर हम समय समय पर कुछ सीखेंगे तो वो हमारा आत्म विश्वास को बड़ावा देगा और हम एक बेहतर इंसान बन पाएंगे।

आत्म-सुधार का महत्व

हमने अभी तक यह सब तो पड़ा की आत्म-सुधार होना क्यों आवश्यक हैं अब हम आपको आत्म-सुधार का महत्व बताएंगे। जिसे अपनाने के बाद व्यक्ति अपने जीवन में क्या क्या सुधार लाता हैं। आत्म सुधार हर मनुष्य के जीवन में महत्वपूर्ण हैं। आत्म सुधार से व्यक्ति अपने जीवन में एक सही दिशा की और चल सकता है। वह साथ ही साथ अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मानसिक विकसित होता हैं। आत्म-सुधार एक मनुष्य को बेहतर बनाता है वह साथ ही साथ मनुष्य अपने व्यक्तिगत जीवन में आत्मविश्वासी और सफल बनने की ओर प्रेरित होता है।

निष्कर्ष – Self Improvement

अक्सर हमने मनुष्य को दूसरो से खुद को तुलना करते हुए देखा हैं। जब मनुष्य खुद की तुलना दूसरे से करता हैं तो वह खुद की काबिलियत पर शक करने लगता हैं। जिससे वह मनुष्य खुद के लक्ष्य की और ध्यान नहीं दे पाता। इसी कमी के चलते अगर मनुष्य खुद के जीवन में परिवर्तन लाता हैं और आत्म-सुधार कर लेता हैं तो वह अपने लक्ष्य की तरफ सफल होता है। साथ ही आत्म-सुधार एक मनुष्य को मानसिक रूप से विकसित करता है। और वह मनुष्य स्वयं को उस रूप में पाता है। जिस रूप में वह खुद को देखना चाहता हैं।

आत्म-सुधार एक स्वयं-मोटिवेटेड प्रक्रिया है और व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक बदलाव के लिए उसकी लगन, प्रतिबद्धता, और संवेदनशीलता की आवश्यकता होती है। इसमें नियमित अभ्यास, संदर्भ स्थापना, और गुरुकुल के साथ सहायता भी मिल सकती है।

आप अपने आत्म-सुधार के लिए अपने बिजी दैनिक जीवन में समय निकालकर अपने लक्ष्यों को साधने का प्रयास कर सकते हैं। सकारात्मक सोच, स्वयं-प्रेम, और दूसरों के साथ समझदारी से व्यवहार करना आपके आत्म-सुधार की प्रक्रिया को समृद्ध कर सकता है।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

Self Improvement – आत्म – सुधार सफल जीवन के मंत्र Read More »

Self Realization

What Is Self Realization – आत्मबोध

Loading

Self Realization-आत्म-बोध, आत्म-खोज की एक गहन और परिवर्तनकारी यात्रा, मानव अस्तित्व के मूल में निहित है। यह हमारे वास्तविक स्वरूप को जागृत करने, हमारे अंतरतम विचारों, भावनाओं और इच्छाओं को समझने और हमारे आस-पास की दुनिया से हमारे संबंध को पहचानने की प्रक्रिया है। आत्म-साक्षात्कार कोई मंजिल नहीं है; बल्कि, यह एक आजीवन अभियान है जो हमारे विश्वासों, मूल्यों और कार्यों को आकार देते हुए धीरे-धीरे आगे बढ़ता है। इस लेख में, हम आत्म-बोध की अवधारणा, व्यक्तिगत विकास में इसके महत्व और इस ज्ञानवर्धक यात्रा को शुरू करने के लिए व्यावहारिक कदमों का पता लगाएंगे।

Self Realization

Understanding Self Realization – आत्मबोध को समझना

आत्म-साक्षात्कार किसी की अपनी वास्तविक प्रकृति, पहचान और उद्देश्य के बारे में जानकारी प्राप्त करने की एक प्रक्रिया है। इसमें विचारों, भावनाओं, विश्वासों और प्रेरणाओं सहित स्वयं के सबसे गहरे पहलुओं के बारे में जागरूक होना शामिल है। आत्म-बोध की यात्रा एक सतत और गतिशील प्रक्रिया है जो व्यक्ति के जीवन भर चलती रहती है। आत्म-साक्षात्कार के बारे में समझने के लिए यहां कुछ प्रमुख पहलू दिए गए हैं:

सतह-स्तर की जागरूकता से परे: आत्म-बोध(Self Realization) किसी की पसंद, नापसंद और प्राथमिकताओं के बारे में जागरूक होने से कहीं अधिक है। यह समाज में हमारी भूमिकाओं और हमारे द्वारा पहने जाने वाले मुखौटों से परे, हम कौन हैं, इसके सार पर प्रकाश डालता है। यह बाहरी दुनिया के अनुकूलन और प्रभावों से परे, हमारे अस्तित्व के मूल को समझने के बारे में है।

अहंकार को उजागर करना: अहंकार हमारी पहचान का हिस्सा है जो हमारी आत्म-छवि, सामाजिक भूमिकाओं और मान्यता की इच्छा से आकार लेता है। आत्म-साक्षात्कार में अहंकार और उसकी प्रवृत्तियों को पहचानना शामिल है, जिसमें आसक्ति, भय और असुरक्षाएँ शामिल हैं। अहंकार को समझकर, हम इसकी सीमाओं को पार करना शुरू कर सकते हैं और स्वयं की गहरी भावना का अनुभव कर सकते हैं।

उच्चस्व से जुड़ाव: आत्म-बोध (Self Realization) में अक्सर उच्च या अधिक प्रामाणिक स्व से जुड़ना शामिल होता है। इसे अहंकार से प्रेरित मन से परे, हम कौन हैं, इसके वास्तविक सार के रूप में समझा जा सकता है। यह आध्यात्मिकता, व्यक्तिगत विकास या ब्रह्मांड के साथ अंतर्संबंध की भावना से भी जुड़ा हो सकता है।

स्वीकृति और करुणा: आत्म-प्राप्ति के लिए आत्म-स्वीकृति और आत्म-करुणा की आवश्यकता होती है। इसमें बिना किसी निर्णय के हमारी शक्तियों और कमजोरियों दोनों को स्वीकार करना और स्वीकार करना शामिल है। यह दयालु रवैया हमें आत्म-आलोचना से पीछे हटने के बजाय अपने अनुभवों से बढ़ने और सीखने की अनुमति देता है।

कंडीशनिंग से मुक्ति: जैसे-जैसे हम आत्म-साक्षात्कार के पथ पर आगे बढ़ते हैं, हम उस सामाजिक और सांस्कृतिक कंडीशनिंग के प्रति जागरूक होने लगते हैं जिसने हमारी मान्यताओं और व्यवहारों को प्रभावित किया है। इन सशर्त पैटर्न से मुक्त होने से हमें अधिक प्रामाणिक रूप से जीने और हमारे वास्तविक मूल्यों के अनुरूप विकल्प चुनने की अनुमति मिलती है।

व्यक्तिगत विकास और परिवर्तन: आत्म-बोध(Self Realization) एक परिवर्तनकारी प्रक्रिया है जो व्यक्तिगत विकास और विकास की ओर ले जाती है। इसमें अक्सर आंतरिक संघर्षों और चुनौतियों का सामना करना शामिल होता है, जो असुविधाजनक हो सकता है लेकिन अंततः सकारात्मक बदलाव का मार्ग प्रशस्त करता है।

माइंडफुलनेस और उपस्थिति: माइंडफुलनेस विकसित करना और पल में मौजूद रहना आत्म-साक्षात्कार का एक अभिन्न अंग है। माइंडफुलनेस हमें अपने विचारों और भावनाओं में उलझे बिना उनका निरीक्षण करने में मदद करती है, जिससे अधिक स्पष्टता और आत्म-जागरूकता आती है।

जीवनपर्यंत यात्रा: आत्म-साक्षात्कार कोई मंजिल नहीं बल्कि निरंतर चलने वाली यात्रा है। इसके लिए निरंतर अन्वेषण, आत्मनिरीक्षण और सीखने की आवश्यकता होती है। जैसे-जैसे हम विकसित होते हैं और बढ़ते हैं, आत्म-जागरूकता और समझ की नई परतें खुलती हैं।

The Importance of Self Realization-आत्म-साक्षात्कार का महत्व

(Self Realization)- आत्म-बोध किसी व्यक्ति के जीवन में अत्यधिक महत्व रखता है और इसका उनकी भलाई, रिश्तों और समग्र विकास पर दूरगामी प्रभाव पड़ता है। यहां कुछ प्रमुख कारण दिए गए हैं कि आत्म-साक्षात्कार क्यों महत्वपूर्ण है प्रामाणिकता: आत्म-बोध व्यक्तियों को अपने सच्चे, प्रामाणिक स्वयं की खोज करने की अनुमति देता है। यह उन्हें सामाजिक कंडीशनिंग और बाहरी प्रभावों से मुक्त होकर, उनके मूल मूल्यों, विश्वासों और इच्छाओं को समझने में सक्षम बनाता है। किसी की प्रामाणिकता को अपनाने से जीवन अधिक पूर्ण और सार्थक होता है।

व्यक्तिगत विकास: आत्म-बोध (Self Realization) व्यक्तिगत विकास और आत्म-सुधार के लिए उत्प्रेरक है। जब व्यक्ति अपनी ताकत और कमजोरियों के बारे में जागरूक हो जाते हैं, तो वे अपने सकारात्मक गुणों को बढ़ाने और उन क्षेत्रों को संबोधित करने की दिशा में काम कर सकते हैं, जिनमें विकास की आवश्यकता है। विकास की यह निरंतर खोज अधिक समृद्ध और संतुलित जीवन की ओर ले जाती है।मानसिक और भावनात्मक कल्याण: मानसिक और भावनात्मक कल्याण को बनाए रखने के लिए किसी की भावनाओं, विचार पैटर्न और ट्रिगर को समझना आवश्यक है।

(Self Realization)- आत्म-बोध व्यक्तियों को स्वस्थ तरीके से अपनी भावनाओं को पहचानने और संसाधित करने का अधिकार देता है, जिससे भावनात्मक बुद्धिमत्ता और लचीलापन बढ़ता है।स्वस्थ रिश्ते: स्वयं को गहराई से जानने से दूसरों के साथ स्वस्थ और अधिक प्रामाणिक संबंध स्थापित होते हैं। जब व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं और सीमाओं के बारे में जागरूक होते हैं, तो वे प्रभावी ढंग से संवाद कर सकते हैं और अधिक सार्थक संबंध बना सकते हैं। आत्म-साक्षात्कार अनसुलझे मुद्दों को दूसरों पर थोपने की प्रवृत्ति को कम करता है, बातचीत में समझ और सहानुभूति को बढ़ावा देता है।

उद्देश्य की स्पष्टता: आत्म-बोध व्यक्तियों को उनके जीवन के उद्देश्य और अर्थ को खोजने में मदद करता है। यह समझने से कि वास्तव में उन्हें क्या प्रेरित करता है, उन्हें अपने कार्यों और निर्णयों को अपने लक्ष्यों के साथ संरेखित करने की अनुमति मिलती है, जिससे दिशा और पूर्ति की भावना पैदा होती है।आत्मविश्वास में वृद्धि: जैसे-जैसे व्यक्ति अधिक आत्म-जागरूक होते हैं और खुद को स्वीकार करते हैं, उनके आत्मविश्वास में स्वाभाविक रूप से सुधार होता है। उनकी शक्तियों को स्वीकार करना और उनके विकास के क्षेत्रों को स्वीकार करना उन्हें सकारात्मक मानसिकता के साथ चुनौतियों से निपटने के लिए सशक्त बनाता है।

प्रभावी निर्णय लेना: आत्म-साक्षात्कारी व्यक्ति अधिक जानकारीपूर्ण और सोच-समझकर निर्णय लेते हैं। अपने मूल्यों और प्राथमिकताओं को समझकर, वे ऐसे निर्णय ले सकते हैं जो उनके प्रामाणिक स्व से मेल खाते हों, जिससे परिणामों के प्रति अधिक संतुष्टि की भावना पैदा होती है।तनाव में कमी: आत्म-बोध तनाव ट्रिगर को पहचानने और प्रबंधित करने में मदद करता है। जब व्यक्ति अपने तनावों और उनसे निपटने के तंत्र को समझते हैं, तो वे दबाव को संभालने और भावनात्मक संतुलन बनाए रखने के लिए स्वस्थ रणनीतियों को लागू कर सकते हैं।

सहानुभूति और करुणा: आत्म-बोध(Self Realization) स्वयं और दूसरों के प्रति सहानुभूति और करुणा को बढ़ावा देता है। जैसे-जैसे व्यक्ति आत्म-खोज की अपनी यात्रा से गुजरते हैं, वे दूसरों के संघर्षों और जटिलताओं को और अधिक समझने लगते हैं, जिससे अधिक सामंजस्यपूर्ण रिश्ते और परस्पर जुड़ाव की भावना पैदा होती है।आध्यात्मिक विकास: कुछ लोगों के लिए, आत्म-बोध आध्यात्मिक विकास से निकटता से जुड़ा हुआ है। जैसे-जैसे व्यक्ति अपने भीतर गहराई में उतरते हैं, वे आध्यात्मिकता या उच्च उद्देश्य से गहरा संबंध खोज सकते हैं, जो गहरी आंतरिक शांति और पूर्णता ला सकता है।

Self Realization Conclusion- आत्मबोध निष्कर्ष

अंत में, आत्म-बोध एक गहन और परिवर्तनकारी यात्रा है जो व्यक्तियों को उनके वास्तविक स्वरूप की गहरी समझ की ओर ले जाती है। यह सतह-स्तर की जागरूकता से परे है और इसमें किसी के अस्तित्व के मूल में गहराई से जाना, उनके विचारों, भावनाओं, विश्वासों और प्रेरणाओं को समझना शामिल है।आत्म-बोध के महत्व को बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताया जा सकता। यह प्रामाणिकता, व्यक्तिगत विकास और भावनात्मक कल्याण की कुंजी है। जब लोग इस यात्रा पर निकलते हैं, तो उन्हें अपने वास्तविक मूल्यों और इच्छाओं का पता चलता है, जिससे वे अपने प्रामाणिक स्व के अनुरूप विकल्प चुनने में सक्षम होते हैं।

इससे जीवन अधिक पूर्ण और उद्देश्यपूर्ण बनता है। स्वस्थ रिश्तों को विकसित करने में आत्म-बोध(Self Realization) भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जैसे-जैसे व्यक्ति अधिक आत्म-जागरूक होते जाते हैं, उनमें सहानुभूति और करुणा विकसित होती है, जिससे दूसरों के साथ सार्थक संबंध विकसित होते हैं। यह नई समझ उन्हें अधिक भावनात्मक बुद्धिमत्ता और लचीलेपन के साथ संघर्षों और चुनौतियों से निपटने में मदद करती है। इसके अलावा, आत्म-बोध आत्म-सुधार के लिए उत्प्रेरक है। अपनी ताकत और कमजोरियों को स्वीकार करके, व्यक्ति व्यक्तिगत विकास और आत्मविश्वास की दिशा में काम कर सकते हैं।

यह उन्हें सकारात्मक मानसिकता के साथ जीवन की चुनौतियों का सामना करने और अधिक जानकारीपूर्ण निर्णय लेने की अनुमति देता है। आत्म-साक्षात्कार कोई मंजिल नहीं बल्कि एक निरंतर चलने वाली यात्रा है। जैसे-जैसे व्यक्ति विकसित होते हैं और बढ़ते हैं, आत्म-जागरूकता की नई परतें खुलती हैं, जिससे निरंतर अन्वेषण और सीखना होता है। आत्म-समझ की यह आजीवन खोज स्वयं और उनके आस-पास की दुनिया के साथ एक गहरा संबंध स्थापित करती है।ऐसी दुनिया में जहां बाहरी प्रभाव और सामाजिक अपेक्षाएं अक्सर हमारी वास्तविक पहचान पर हावी हो सकती हैं,

आत्म-बोध व्यक्तियों को कंडीशनिंग से मुक्त होने और अपने प्रामाणिक स्वयं की खोज करने का अधिकार देता है। यह उन्हें अपने वास्तविक स्वरूप के प्रति सच्चे रहने और अपने गहनतम मूल्यों और आकांक्षाओं के अनुरूप जीवन जीने की स्वतंत्रता देता है। अंततः, आत्म-साक्षात्कार केवल एक व्यक्तिगत प्रयास नहीं है; इसमें समाज में सकारात्मक लहर पैदा करने की क्षमता है। जब अधिक लोग अपने वास्तविक स्वरूप को अपनाते हैं, तो यह प्रामाणिकता, करुणा और समझ की संस्कृति को बढ़ावा देता है, जिससे एक अधिक सामंजस्यपूर्ण और परस्पर जुड़ी दुनिया का निर्माण होता है।

जैसे-जैसे (Self Realization) आत्म-बोध की यात्रा आगे बढ़ती है, व्यक्तियों को आध्यात्मिक विकास और उद्देश्य की गहरी समझ मिल सकती है, जो उन्हें आंतरिक शांति और संतुष्टि प्रदान करती है। एक सतत प्रक्रिया के रूप में आत्म-बोध को अपनाने से व्यक्तियों को पूर्ण जीवन जीने और अपने और दूसरों के कल्याण में सकारात्मक योगदान देने की अनुमति मिलती है।ऐसी दुनिया में जो बाहरी उपलब्धियों और सत्यापन को प्रोत्साहित करती है,

(Self Realization)- आत्म-बोध अंदर की ओर मुड़ने और हम में से प्रत्येक के भीतर मौजूद ज्ञान और क्षमता के विशाल भंडार की खोज करने के लिए एक शक्तिशाली अनुस्मारक है। यह एक परिवर्तनकारी यात्रा शुरू करने का निमंत्रण है जो गहन व्यक्तिगत विकास, सार्थक संबंध और जीवन में उद्देश्य की एक बड़ी भावना को जन्म दे सकती है। हम सभी को अपने अस्तित्व की गहराई में जाने और आत्म-बोध की परिवर्तनकारी शक्ति को अनलॉक करने का साहस और जिज्ञासा मिले।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

What Is Self Realization – आत्मबोध Read More »

How To Motivate To Yourself

How To Motivate Yourself – खुद को प्रेरित कैसे करें

Loading

एक व्यक्ति के सफल जीवन का सबसे अहम हिस्सा उसका आत्मविश्वास होता हैं। लेकिन यही आत्मविश्वास आज कल की नकरात्मक भरी सोच में कही खो सा गया है। जिसके चलते लोगो को इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में खुद को सेल्फ मोटिवेट रखना अति आवश्यक हो चुका है। तो ऐसे में बात आती है। की एक व्यक्ति अपने जीवन में किस तरह खुद को मोटिवेट कर सकता है। जिससे वह अपने जीवन को सकारात्मक सोच से जी सके ।

एक असल जिंदगी में अगर कोई इंसान कोई मोटिवेशनल वीडियो या बुक पढ़ लेता हैं तो वो अपने जीवन में बेहद सकारात्मक सोच से संकल्प लेता है जिसके बाद वह अपने लक्ष्य के लिए खुद को तैयार करता है लेकिन वही मोटिवेशन सुबह उठ कर नकरात्मक सोच में बदल जाता है और वह व्यक्ति फिर से खुद को सामान्य जीवन में ले आता है और यही समस्या हर व्यक्ति के साथ हैं तो इसी के चलते आज हम आपको कुछ ऐसी बाते बताएंगे। जिससे आप अपने जीवन में खुद को मोटिवेट कर सकते हैं।

How To Motivate To Yourself

अर्थ क्या है सेल्फ मोटिवेशन का

मोटिवेशन एक ऐसी शक्ति है। जो लोगो के अंदर प्रेरणा जागरूक करती हैं। जिससे व्यक्ति अपने जीवन में जो लक्ष्य की कल्पना करता है वह उसे पाने के लिए कड़ी मेहनत करने लग जाता हैं। ऐसे में हर व्यक्ति के जीवन में सेल्फ मोटिवेशन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सेल्फ मोटिवेशन का अर्थ है खुद को प्रोत्साहित करना। आज के भाग दौड़ भरे जीवन में हर व्यक्ति को सेल्फ मोटिवेशन की आवश्यकता है जिससे वह किसी भी पड़ाव में खुद को जब घिरा हुआ महसूस करता है तो वही सेल्फ मोटिवेशन से खुद को राहत देने की कोशिश कर सकता है।

जीवन में क्यों जरूरी है सेल्फ मोटिवेशन

जैसे की हम सब जानते है हर एक सफल इंसान के पीछे कोई न कोई प्रेरणा अवश्य होती हैं। बिना प्रेरणा के कोई भी इंसान कामयाबी हासिल नही कर सकता और अपनी कामयाबी तक पहुंच कर भी व्यक्ति कई बार इधर उधर भटक जाता हैं। तो ऐसे हर व्यक्ति को अपने जीवन में अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए सेल्फ मोटिवेशन की आवश्यकता होती है जिससे व्यक्ति अपने जीवन में कामयाबी हासिल कर सके।

सेल्फ मोटिवेट रहने के महत्व

आत्म-प्रेरणा एक ऐसी शक्ति है जो हमें आगे बढ़ने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरित करती है. यह एक आंतरिक शक्ति है जो हमें कठिन परिस्थितियों में भी काम करने के लिए प्रेरित करती है. आत्म-प्रेरणा के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं –

अपनी शक्तियों को बाहर लाना

हर इंसान अपने जीवन में कोई न कोई लक्ष्य जरूर बनाता है जिसे वह अपने जीवन में हासिल करना चाहता है लेकिन कई बार अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए इंसान को सेल्फ मोटिवेशन की जरूरत होती है क्योंकी कहा जाता है की एक प्रेरित इंसान अपने अंदर की छुपी शक्तियों को बाहर लाता है और जिससे वह अपने जीवन को सफल बना सकता है।

अपने लक्ष्य को करता है जल्दी पूरा

एक नॉर्मल इंसान अपनी जीवन में अपना लक्ष्य हासिल तो करता हैं लेकिन वही इंसान अगर अपने जीवन में खुद को प्रेरित करे, तो वह अपना लक्ष्य एक नॉर्मल इंसान के मुकाबले जल्दी समय में पूरा कर लेता हैं।

बढ़ती है सकारात्मक ऊर्जा

एक आत्म प्रेरित इंसान अपने लक्ष्य की और सकारात्मक ऊर्जा से बढ़ता है । जिस कारण वह अपने रास्ते में आई मुश्किलों का सामना सकारात्मक सोच से कर पाता है और जल्दी हार नही मानता है । जिस कारण वे तेजी से खुद के लक्ष्य तक पहुंचा पायेगा ।

कैसे कर सकते है खुद को सेल्फ मोटिवेट

हर इंसान को अपने जीवन में देखे गए लक्ष्य को पूरा करने के लिए किसी न किसी प्रेरणा स्रोत की आवश्यकता जरूर होती है। क्योंकि कहते है की अगर इंसान की सोच सकारात्मक होगी तो वो आई हर मुश्किलों का सामना सकारात्मक सोच के साथ करेगा। तो कैसे रख सकते है खुद को मोटिवेट।

दूसरो से खुद की तुलना मत करो

हर इंसान का अलग व्यक्तित्व होता है। लेकिन यह बात हम भूल जाते हैं। और खुद की दूसरो के साथ तुलना करने लगते है। जिस कारण हम अपने लक्ष्य को लेकर अप्रेरित हो जाते हैं। तो अगर हमे अपने लक्ष्य को हासिल करना है तो हमे सबसे पहले खुद की तुलना दूसरो साथ बंद करनी पड़ेगी। जिस वजह से हम मोटिवेट रहेंगे और आसानी से लक्ष्य की और पहुंच पाएंगे।

ध्यान करे

अक्सर हम सुनते है की सुबह उठ कर मेडिटेशन या ध्यान करना बेहद अच्छा होता है। इसके पीछे यह कारण है, अगर व्यक्ति सुबह उठ कर शांत वातावरण में मेडिटेशन करता है, तो वो अपने मन में चल रहे विचारो को पहचान सकता है, और दिन भर खुद को आत्मप्रेरित कर सकता है, और अच्छा महसूस कर सकता हैं।

कल्पना कीजिए

जब हम किसी क्षेत्र में ऊंचाइयां हासिल करना चाहते हैं तो हमे उस क्षेत्र में जो लोग पहले से ही सफल है उनसे खुद को उसी क्षेत्र में कल्पना करते है तो हमारे अंदर एक आत्म प्रेरणा की ऊर्जा उत्पन होती है। जिससे उस ऊर्जा से हमारे अंदर अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की तेजी उत्पन होती है। और हम सारा ध्यान अपने लक्ष्य पर लग जाता हैं।

किताबें पढ़ने की आदत डालिए

कई बार मोटिवेशन डिमोटिवेशन में बदल जाता हैं। तो खुद को हर समय मोटिवेट करने के लिए व्यक्ति को दिन में कुछ समय निकल कर प्रेरणादायक किताबे अवश्य पढ़नी चाहिए, किताबें पढ़ने की आदत डालने के लिए समय और प्रयास लगता है, लेकिन यह एक पुरस्कृत अनुभव है. जब आप किताबें पढ़ते हैं, तो आप नए चीजें सीखते हैं, अपने शब्दावली का विस्तार करते हैं, और अपने कल्पनाशील कौशल को विकसित करते हैं , और जिससे आत्म प्रेरणा की शक्ति बढती है l

कभी हिम्मत न हारे

जिंदगी का दूसरा नाम उतार चढ़ाव ही है। हम ऐसी जीवन की अपेक्षा करते है जिससे कोई दुख न हो। लेकिन जीवन का दूसरा नाम ही उतार चढ़ाव है। जिस कारण अगर व्यक्ति कभी अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कई मुश्किलों का सामना करता है। और कई बार तो वो थक भी जाता है। तो ऐसे में व्यक्ति को खुद को मोटिवेट रखना चाहिए और हिम्मत न हारते हुए। यही बोलना चाहिए की में कर सकता हूं।

प्रकृति के साथ समय बिताए

यह बात तो सौ आने सच है की प्रकृति में रहने से व्यक्ति का दिल और दिमाग को शांति मिलती है। क्योंकि प्रकृति एक ऐसी चीज है जिससे हमे बहुत ज्यादा आत्मा प्रेरणा मिलती है। क्योंकि हमे प्रकृति से बहुत कुछ सीखने को मिलता है, जैसे प्रकृति हमे सिखाती है “अगर रात होती होती है तो दिन भी होता है” “धूप है तो छाव भी है”। तो व्यक्ति अगर जितना समय प्रकृति के साथ बिताएगा। वह उतना ही खुद को मोटिवेट रख पाएगा।

निष्कर्ष- How To Motivate To Yourself

आज कल जिंदगी बहुत भाग दौड़ भरी हो चुकी। जिसमे व्यक्ति के पास खुद के लिए समय ही नहीं है। और खुद को इतना डिमोटिवेट कर बैठता है की वह कई बार अपने जीवन से परेशान होने लगता है। तो ऐसे में इस लेख को पढ़ कर व्यक्ति खुद की दिनचर्या में अपने लक्ष्य के लिए खुद को मोटिवेट कर सकता है। और एक अच्छे जीवन को जीने के लिए खुद को खुश रख सकता हैं ।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

How To Motivate Yourself – खुद को प्रेरित कैसे करें Read More »

How To Better Your Mental Health

How To Better Your Mental Health – अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर कैसे बनाएं

Loading

How To Better Your Mental Health– आज के तेजी से बदलते और मांगदार दुनिया में हमारे मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना काफी महत्वपूर्ण हो गया है। मानसिक संतुलन सीधे तौर पर हमारे पुरे जीवन की गुणवत्ता, उत्पादकता, और संबंधों पर प्रभाव डालता है। सकारात्मक आदतें और समन्वय में बदलाव लाने से हमारी भावनात्मक टिकाऊता को वृद्धि होती है और हमें जीवन के मुश्किलाओं को आसानी से सामना करने में मदद मिलती है। इस लेख में, हम अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए दस व्यावहारिक और प्रभावशाली तरीके देखेंगे, जो आपके जीवन को खुशहाल, संतुलित बनाने में मदद कर सकते है ।

Self Care

खुद की देखभाल को प्राथमिकता दे

सेल्फ-केयर मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। अपनी खुशियों और आराम के लिए समय निकालें, चाहे वह पढ़ना हो, योग अभ्यास करना हो, प्रकृति में समय बिताना हो, या कोई शौक करना हो। नियमित रूप से ऐसी गतिविधियों में शामिल होने से तनाव कम होता है और सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ावा मिलता है।

स्वस्थ सीमाएं स्थापित करें

स्वस्थ सीमाएं स्थापित करना स्वास्थ्य संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण है। काम और व्यक्तिगत संबंधों में आपको क्या संभव है और क्या नहीं, इसके बारे में साहसपूर्वक बोलें। अधिक करने से बचें और बर्नआउट से बचने के लिए अपने स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें।

माइंडफुलनेस और ध्यान का अभ्यास करें

माइंडफुलनेस और ध्यान तनाव को कम करने और मानसिक स्पष्टता को बेहतर बनाने के लिए शक्तिशाली उपकरण हैं। हर दिन कुछ मिनट अध्यात्म अभ्यास करें, जिससे आप पूरी तरह से वर्तमान में और अपने विचारों और भावनाओं के अवगमन में हो सकें।

Exercise

शारीरिक गतिविधि में रहें

नियमित व्यायाम न केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, बल्कि मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शारीरिक गतिविधि से एंडोर्फिन्स, यानी “फील-गुड” हॉर्मोन्स, निकलते हैं, जो आपके मन की स्थिति को बेहतर बनाने और चिंता और अवसाद की भावना को कम कर सकते हैं। व्यायाम आपके दिमाग में चल रहे नकारामक विचारो को दबाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है |

How To Better Your Mental Health

सहायक सामाजिक नेटवर्क का निर्माण करें

सहायक दोस्तों और परिवार के साथ मजबूत रिश्ते बनाना मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए अहम है। ऐसे लोगों के साथ घिरे रहें जो आपको उत्साहित करते हैं, आपकी सुनते हैं, और मुश्किल समय में सहायता प्रदान करते हैं। साथ आपके साथ सकारात्मक विचारो और उर्जा का आदान प्रदान करते हो |

पेशेवर सहायता लें

यदि आप निरंतर मानसिक स्वास्थ्य के चुनौतियों या भावनात्मक उतार-चढ़ाव से गुजर रहे हैं, तो न करने का निर्णय लेने में हिचकिचाएं। हमेशा कुशल और पेशेवर से मदद लेना आपको अनमोल ज्ञान और सहायता प्रदान कर सकता है, जिससे आप मुश्किल वक्त में भी आसानी से निपट सकेंगे।

Social Media

स्क्रीन टाइम और सोशल मीडिया को सीमित करें

अतिरिक्त स्क्रीन टाइम और सोशल मीडिया का उपयोग मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है, जिससे तुलना, अकेलापन, और चिंता की भावना हो सकती है। अपने स्क्रीन टाइम पर सीमाएं स्थापित करें और ऑफलाइन गतिविधियों में नियमित रूप से समय बिताएं।

कृतज्ञता का अभ्यास करें

कृतज्ञता का अभ्यास करने से एक सकारात्मक मानसिकता का विकास होता है। हर दिन छोटी-छोटी बातों के लिए आभार व्यक्त करें, चाहे वह छोटा हो या बड़ा । कृतज्ञता आपकी ध्यान को नकारात्मकता से सकारात्मकता की ओर परिवर्त करती है। कृतज्ञता आपको खुशी का अनुभव कराती है l

Sleep Disorder
पर्याप्त नींद प्राप्त करें

नींद मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। हर रात 7-9 घंटे की गुणवत्ता वाली नींद का लक्ष्य रखें, जिससे आपके मन और शरीर को फिर से ताजगी मिल सके, और आपकी मूड और बौद्धिक क्षमता में सुधार हो। आवश्यकता से कम नींद आपके कार्य क्षमता में अवरोध बन सकती है l

अधूरापन को ग्रहण करें

पूर्णता के लिए नहीं, प्रगति के लिए प्रयास करें। अपने जीवन में चुनौतियों और असफलताओं का सामना करना सामान्य है। गलतियों को स्वीकार करना जीवन का हिस्सा है और यह विकास का एक अवसर है।

निष्कर्ष

अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाना एक लगातार यात्रा करना है जिसमें समर्पण और स्वयं-करुणा की आवश्यकता होती है। इन दस तरीकों को अपने दैनिक जीवन में शामिल करके, आप अपनी भावनात्मक टिकाऊता को विकसित कर सकते हैं, तनाव को कम कर सकते हैं, और अपने संपूर्ण मानसिक स्वास्थ्य और जीवन संतुष्टि में सकारात्मक परिवर्तनों का साक्षात्कार कर सकते है । ध्यान दें कि प्रियजनों और पेशेवरों से सहायता लेना कमजोरी का संकेत नहीं है, बल्कि अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करने की एक साहसिक कदम है। इस सफलता प्रक्रिया को गले लगाएं और समय के साथ, आप अपने संपूर्ण मानसिक स्वास्थ्य और जीवन संतुष्टि में सकारात्मक बदलावों का साक्षात्कार करे सकते है ।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

How To Better Your Mental Health – अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर कैसे बनाएं Read More »

Life Lesson Story

Life Lesson Story – समझदार बहू की समझदारी….

Loading

Life Lesson Storyमोहन का परिवार जिसमे उसके माता पिता, और बहन लक्ष्मी के साथ रहता था, फिर वो दिन आया जब मोहन का विवाह सुधा नाम की लड़की से हो गया और अब चारो लोगो प्रेम से एक ही छत के नीचे रहने लगे, एक दुसरे के दुःख तकलीफ में हमेशा खड़े रहते और एक दुसरे का सहयोग करते………. लेकिन दिन

उफ्फ ये दाल है या नमक ही नमक …. मोहन भैया देखो तो आज सुधा भाभी ने फिर से खाने में नमक ज्यादा डाल दिया….
लक्ष्मी ने शिकायती लहजे में अपने भाई मोहन से कहा….
फैक्ट्री से घर लंच करने आएं मोहन ने भी जैसे ही पहला कौर सब्जी के साथ लगाकर खाया तो वह भी गुस्से से बोला….
सुधा ये क्या हैं ध्यान कहां रहता है तुम्हारा सब्जी में इतना ज्यादा नमक …
जरुर कहीं मोबाइल फोन में लगी हुई होगी इसलिए लगता है खाने में नमक दो बार डाल दिया है मोहन की माता जी ने भी मुंह बनाकर कहा…

Life Lesson Story

Life Lesson Story

रसोईघर में रोटियां सेंक रही सुधा सब सुन रही थी तो उसे बुरा लगा उसकी वजह से बेकार में सबके खाने का जायका बिगड़ गया खैर वो तेजी से फ्रिज में से दही निकालकर जल्दी से प्याज टमाटर काटकर उसे छोंक कर ले आई जोकि बिल्कुल पनीर भुजिया की तरह झटपट बनकर तैयार हो जाता है और सबको परोसते हुए बोली…
आज इसे खाइए ….और दोबारा दौड़कर रसोईघर में रोटियां सेंकने लगी उसे अच्छे से स्मरण था उसने सब्जी में सभी मसाले नमक तय मात्रा में ही डाले थे फिर ये अचानक नमक का तेज होना….

लेकिन ये केवल आज ही नहीं हुआ बल्कि बीच बीच में कई बार उसकी बनाई सब्जी में कभी नमक तो कभी मिर्च तेज हो जाती है और तो और कभी पानी….
तभी उसे खाने की टेबल पर बैठे सभी घर के सदस्यों के चेहरे याद आ रहें थे सब के चेहरे या तो उतरे हुए थे या नाराज थे मगर केवल उसकी छोटी ननद लक्ष्मी वो मुस्कुरा रही थी कहीं इन सब शरारातो के पीछे वही तो नहीं है ….

पर बिना सबूत के वो कैसे मोहन या अपनी सासू मां ससुरजी से कहें और कोई भी भाई या माता पिता अपनी बहन बेटी की शरारत को कैसे मानेगा,
सुधा ने सोचना शुरू किया की क्यों उसकी ननद उसके साथ ऐसा कर रही है उसने तो वर्तमान में उसे हमेशा स्नेह ही किया है एक छोटी बहन एक बेटी की भांति…फिर…कहीं उसकी शादी ना होना इसकी वजह तो नहीं….

अपनी पढ़ाई के वक्त उसने एकबार पढ़ा था जब कोई हताश होता है और अपना गुस्सा किसी पर निकाल नहीं पाता तो वह ऐसी शरारतें करके दूसरे को डांट खिलाकर अपने आपको संतुष्ट करता है कहीं लक्ष्मी दीदी भी तो बार- बार शादी के लिए नकारे जाने की हताशा इस तरह मुझपर निकाल रही हो….
एक दोबार सुधा ने कोशिश भी की रानी से इधर उधर की बातें करके पूछने की लेकिन लक्ष्मी साफतौर पर नकार गई,

सुधा समझ चुकी थी की कोई अपनी ग़लती कभी भी स्वयं स्वीकार नहीं करता तो यहां लक्ष्मी कैसे मानेगी आखिरकार उसने एक तरीका सोचा और दोपहर का खाना बनाते वक्त जानबूझकर एक कोने में मोबाइल फोन लगाकर उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग लगा दी,
जिसमें वह सब्जी में क्या नमक मिर्च मसाले डाल रही थी और फिर सब्जी बनाकर चुपचाप ढंक कर बहाने से छत से कपड़े लेने चली गई और योजना अनुसार सचमुच उसकी ननद वहां आई और इधर उधर देखकर जल्दी से कड़छी भरकर नमक सब्जी में डालकर वहां से तुरंत रफूचक्कर हो गई,

कुछ देर बाद मोहन फैक्ट्री से लौटकर लंच करने आया तो सुधा ने सबको दूसरी सब्जी परोसी ये देखकर मोहन बोला… सुधा आज तो तुमने राजमां चावल बनाने के लिए तैयारियां की थी तो फिर ये आलू मटर रोटी
सुधा ने मोहन से कहा … हां वो राजमां थोड़े ज्यादा नहीं गले इस बार दुकान वाले ने अच्छे क्वालिटी के नहीं दिए उसे जाकर दिखाऊंगी खैर आप आज आलू मटर खा लीजिए कयुं देर करते हैं आज लक्ष्मी दीदी को अपनी फ्रेंड के साथ बाहर जाना है, है ना दीदी…..
हां भाभी …. कहकर लक्ष्मी ने भी चुपचाप खाना खा लिया,

लक्ष्मी के बाहर चले जाने के बाद सुधा ने मोहन और अपने सास ससुर सबको कमरे में बुलाया और कहा….ये देखिए…आप सभी को लगता था कि मैं भुलक्कड़ हो गई हूं मोबाइल फोन पर लगी रहती हूं इसलिए कभी नमक तो कभी मिर्च और कभी पानी सब्जी में ज्यादा हो जाता है,
देखिए में तो सबकुछ अच्छे से डालती हूं मगर…. जब सबने वीडियो रिकॉर्डिंग देखी तो सब दंग रह गए,
तो मोहन ने कहा…. तुम्हें ये सब लक्ष्मी के सामने बताना चाहिए था ताकि उसे सबके सामने….

वहीं तो मैं नहीं चाहती मोहनजी…. देखिए ईश्वर की दया से आज नहीं तो कल लक्ष्मी दीदी की शादी हो ही जाएगी,
लेकिन वहां भी अगर उन्होंने अपने ससुराल में अपनी इसी तरह की शरारतें और दूसरों को नीचा दिखाने की आदतें जारी रखीं तो उनका वहां सबसे निभाना मुश्किल हो जाएगा ऐसे में नतीजा घर परिवार का टूटना होता हैं,
मैंने अपने तरीकों से उन्हें समझाने की कोशिश की मगर वो… बिना सबूत के आपको बताती तो आप भी नहीं मानते….

इसलिए मैंने ये योजना बनाई और वीडियो रिकॉर्डिंग मोबाइल पर लगाकर स्वयं रसोईघर से दूर छतपर चली गयी,
मगर बेटा तुमने ये वीडियो रिकॉर्डिंग हमें ही कयुं दिखाई लक्ष्मी के सामने दिखाई होती तो……
बाबूजी मां….मै नहीं चाहती कि हमारे घर परिवार में नफरत और बढ़े बल्कि हम सभी में प्यार बढे इसीलिए ये वीडियो आप ही लक्ष्मी दीदी दिखाकर उन्हें समझाएं…

जब बच्चे नादानियां करते हैं तो बड़े उन्हें सही तरीके से अपने अनुभवों द्वारा संवारते हैं यूं तो लक्ष्मी मेरी ननद है मगर मेरी छोटी बहन मेरी बेटी की तरह और कोई भी मां अपने बच्चे को नीचा नहीं दिखाती बल्कि उसे इस तरीके से समझाया करतीं हैं की उसकी जिंदगी हमेशा खुशियों से भरी रहे मां बाबूजी….
आप सभी उन्हें प्यार से समझाऐगे तो वह जल्दी और अच्छी तरह समझ जाएंगी,

अचानक मोहन के माता पिता ने आगे बढ़कर सुधा को सीने से लगा लिया और कहा…. बेटा…. तुम्हारी जैसी समझदार बहु हर घर परिवार में ईश्वर सभी को दें,
जो अपने परिवार को बखूबी निभाना जानती है जो घर तोड़ने में नहीं बल्कि घरों को जोड़ने में लगी रहती है……
ईश्वर तुम्हें सभी खुशियों से भरा रखें कहकर दोनों ने सुधा के सिर पर स्नेहिल हाथ रख दिया,
वहीं दूसरी ओर मोहन और सुधा दोनों भीगी हुई पलकों को साफ करते हुए मुस्कुरा रहे थे..!”

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

Life Lesson Story – समझदार बहू की समझदारी…. Read More »

Importance Of Yoga In Life

Importance Of Yoga In Life- जीवन में योग का महत्व

Loading

(Importance Of Yoga In Life)योग एक प्राचीन भारतीय विधि है जिसका उद्देश्य शरीर, मन, और आत्मा के संगम को प्राप्त करना होता है। योग शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है, जिसका मतलब “जुड़ाव” या “संयोजन” होता है। इसमें शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक अभ्यास के माध्यम से संतुलन एवं एकाग्रता का विकास किया जाता है।योग का मूल मार्ग अभ्यास है। इसमें अलग-अलग आसनों , प्राणायाम , ध्यान और धारणा का समावेश होता है। योग के माध्यम से हम अपने शारीर, मन, और आत्मा को संयोजित करके शांति, सुख, और समृद्धि को प्राप्त कर सकते हैं। योग का अर्थ शरीर और मन के संयोजन को समझाता है।

योगी व्यक्ति अपने आप को और अपने चारों ओर के संसार को समझता है और सभी के साथ एक आत्मीय भाव विकसित करता है।योग का उद्देश्य सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य को सुधारना ही नहीं होता, बल्कि यह आत्मसंयम, आत्मज्ञान, और आत्मसाक्षात्कार का मार्ग प्रशस्त करता है। योग के माध्यम से मन की चंचलता और भ्रम को दूर किया जाता है और व्यक्ति आत्मशक्ति और स्वयंविश्वास के साथ जीवन का सामना करता है।योगा के अभ्यास से शरीर, मन, और आत्मा को संयोजित करके व्यक्ति शांत, स्थिर, और संतुष्ट जीवन जी सकता है।

यह व्यक्ति के अंतरंग और बाह्य विकास में मदद करता है और सामर्थ्य को बढ़ाता है। इसलिए, योगा एक संपूर्ण विकास का मार्ग प्रदान करता है जो हमें संतुलित और सफल जीवन जीने में मदद करता है।

Importance Of Yoga In Life

योगा के लाभ – Benefits of Yoga (Importance Of Yoga In Life)

  1. शारीरिक लाभ:
    • शारीरिक संतुलन में सुधार: योग के अभ्यास से शारीर का संतुलन और स्थैर्य बढ़ता है, जिससे चाल-ढाल सुधारती है।
    • मांसपेशियों की मजबूती: योगाभ्यास से मांसपेशियों की मजबूती बढ़ती है, जिससे शारीरिक कठिनाइयों का सामना करने में मदद मिलती है।
    • शारीरिक समायोजन: योग आसनों के अभ्यास से शरीर के अंग और अंगूठों का समायोजन होता है, जिससे शारीर की सुगठितता बढ़ती है।
    • संचार सुधार: योग प्राणायाम के माध्यम से श्वास-प्रश्वास का संचार सुधारता है, जो श्वसन मंदिर के स्वस्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।
    • रक्त शोधन: योग विभिन्न आसनों द्वारा शरीर के रक्त को शुद्ध करने में मदद करता है, जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।
  2. मानसिक लाभ:
    • तनाव का कम होना: योगाभ्यास से मन की शांति होती है, जिससे तनाव कम होता है और मानसिक स्थिरता मिलती है।
    • मन की स्थिरता: योग के ध्यान अभ्यास से मन की स्थिरता विकसित होती है, जिससे व्यक्ति अपने विचारों को नियंत्रित कर पाता है।
    • धैर्य एवं सहनशक्ति: योग के अभ्यास से व्यक्ति में धैर्य और सहनशक्ति की वृद्धि होती है, जिससे वह जीवन के साथ मुश्किल समयों का सामना कर सकता है।
    • आत्म-संयम: योग अभ्यास करने से व्यक्ति को अपने विकल्पों को संयमित करने की क्षमता मिलती है, जिससे उसके निर्णय सही होते हैं।
    • तनाव कम करने में मदद: योग ध्यान और आसनों के माध्यम से तनाव को कम करता है और चिंता का सामना करने में मदद करता है। ध्यान करने से मन की स्थिरता बढ़ती है और मन को प्रतिस्पर्धाशून्य बनाने में मदद करता है।
    • अवसाद को कम करने में सहायक: योगा के अभ्यास से डिप्रेशन और अवसाद के लक्षणों में सुधार हो सकता है। ध्यान करने से आनंद के स्तर में वृद्धि होती है और अन्य नकारात्मक भावनाएं भी कम होती हैं।
    • समता एवं धैर्य: योगाभ्यास से व्यक्ति को समता और धैर्य की भावना विकसित होती है। योग के माध्यम से व्यक्ति अपने जीवन के उच्च-निच्च समयों में समानभाव से पेश आता है।
    • बेहतर स्वस्थ मन: योगा के अभ्यास से मन को नियंत्रित करने की क्षमता विकसित होती है और सकारात्मक भावनाएं प्राप्त होती हैं। योगा व्यायाम करने से नकारात्मक विचारों को दूर करने में मदद मिलती है।
    • समझदारी और समस्या समाधान: योग करने से व्यक्ति की समझदारी और निर्णय-लेने की क्षमता बढ़ती है। योग के माध्यम से व्यक्ति समस्याओं के समाधान के लिए बेहतर विकल्पों को ढूंढने की कला सीखता है।
    • स्वान्तःसुखाय (Inner Peace): योग के ध्यान और धारणा के अभ्यास से व्यक्ति को आंतरिक शांति की अनुभूति होती है। मेधाशक्ति और नियंत्रित मन से व्यक्ति अपने आत्म-साथी के साथ बेहतर सम्बन्ध बनाता है।
    • स्वयं के प्रति सम्मान: योग के अभ्यास से व्यक्ति अपने स्वयं के प्रति सम्मान और स्वयं के प्रति प्रेम की भावना विकसित करता है। यह आत्म-स्वीकार की भावना को प्रोत्साहित करता है और सेल्फ-एस्तीम को बढ़ाता है।
  3. आध्यात्मिक लाभ:
    • आत्मज्ञान: योग अभ्यास से व्यक्ति को अपने आत्मा को जानने और समझने का अनुभव होता है, जिससे उसकी आत्मविश्वास में सुधार होता है।
    • आत्मसाक्षात्कार: योग के माध्यम से व्यक्ति को आत्मसाक्षात्कार का अनुभव होता है, जिससे उसके जीवन का उद्देश्य स्पष्ट होता है।
    • आत्म-समर्पण: योगाभ्यास से व्यक्ति को आत्म-समर्पण का अनुभव होता है, जिससे उसके जीवन में सही मार्ग पर चलने की क्षमता मिलती है।
  4. सामाजिक लाभ:
    • योग सामाजिक जीवन को सुखद और समरस बनाने में मदद करता है।
    • योग करने से व्यक्ति दूसरों के प्रति समझदार, सहानुभूतिपूर्वक, और समरस्त बनता है।
    • योग के माध्यम से व्यक्ति में दयालुता, करुणा, और उदारता की भावना विकसित होती है।

योगा के इन फायदों के कारण आजकल लोग योग को अपने दैनिक जीवन में शामिल करके अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने का प्रयास कर रहे हैं।

योगा के प्रकार-Type Of Yoga (Importance Of Yoga In Life)

योगा एक प्राचीन भारतीय धार्मिक और आध्यात्मिक प्रथा है जिसे शरीर, मन, और आत्मा को संतुलित और एकीकृत करने के लिए विकसित किया गया है। योगा के माध्यम से व्यक्ति शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक शांति, और आध्यात्मिक उन्नति की प्राप्ति के प्रयास करता है। योगा के कई प्रकार हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख प्रकार निम्नलिखित हैं:

  1. हठ योग (Hatha Yoga): हठ योग शारीरिक अभ्यास और योगासनों के माध्यम से शारीरिक और मानसिक संतुलन प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित करता है।
  2. राज योग (Raja Yoga): राज योग में मन को शांत करने और उसे नियंत्रित करने के लिए मेधा एवं धारणा की अभ्यास की जाती है।
  3. भक्ति योग (Bhakti Yoga): भक्ति योग में भगवान के प्रति भक्ति और प्रेम के माध्यम से आत्मा को एक करने का प्रयास किया जाता है।
  4. कर्म योग (Karma Yoga): कर्म योग विभिन्न कर्मों को निष्काम भाव से करने के माध्यम से सेवा और समर्पण के मार्ग का अनुसरण करता है।
  5. ज्ञान योग (Jnana Yoga): ज्ञान योग में वेदांत, उपनिषद्, और ध्यान के माध्यम से आत्म-साक्षात्कार और आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति का अभ्यास किया जाता है।
  6. मंत्र योग (Mantra Yoga): मंत्र योग में ध्यान के लिए विशेष मंत्रों का उच्चारण किया जाता है जो मन को शांत करने और आत्मा के प्रकाश को प्रेरित करने में मदद करते हैं।
  7. कुंडलिनी योग (Kundalini Yoga): कुंडलिनी योग में शक्तिपात के माध्यम से जाग्रत कुंडलिनी शक्ति को उठाकर चक्रों के माध्यम से आत्मा के साथ एकीकरण का प्रयास किया जाता है।

सारांश –

योग प्रत्येक मनुष्य के शरीरी, आत्मा और मन के विकास के लिए प्रमुख साधना का मार्ग है, योग व्यक्ति को उसके स्तर से उठा कर उसे एक संतुलित, स्वस्थ और समृद्ध जीवन जीने की कला सिखाता है। योग को हम अपने दैनिक जीवन में शामिल करके समाज में सकारात्मक बदलाव ला सकते है और खुशहाल एवं समृद्ध समाज का निर्माण कर सकते हैं।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

6.Golden Temple – स्वर्ण मंदिर का इतिहास

7.Vaishno Devi – वैष्णो देवी माता मंदिर का इतिहास

8.Jagannath Temple – जगन्नाथ मंदिर का इतिहास

9.Badrinath Temple – बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास

10.Konark Sun Temple – कोणार्क सूर्य मंदिर

Importance Of Yoga In Life- जीवन में योग का महत्व Read More »

Teamwork

What Is The Meaning Of Teamwork

Loading

What Is The Meaning Of Teamwork – एक अकेला मनुष्य एक बूंद के बराबर होता हैं। अगर वही मनुष्य टीम में रह कर काम करेगा तो वही बूंद से वह सागर बनने तक का सफर तह करता हैं। इसी तरह जब कुछ लोग मिल कर एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सहयोग में रह कर एक दूसरे के साथ काम कर के अपने अलग–अलग कौशल का इस्तेमाल करके अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करते है। तब वह टीम वर्क कहलाता है।

एक आम भाषा में कहा जाए, तो टीम वर्क वह कार्य हैं जिसमे व्यक्ति खुद की अहमियत को समझ कर अपने अंदर छुपे कौशल से समूह में रह कर सहयोग करे तो वह टीम वर्क कहलाता है। जैसे: व्यवसाय जिंदगी में मनुष्य एक टीम में रह कर अपने व्यवसाय के प्रोजेक्ट को एक साथ मिल कर पूरा करते है। वही सिपाही एक साथ रह कर देश के लिए लड़ते हैं। ऐसे ही टीम में रह रहा व्यक्ति हमेशा मोटिवेट रहता है और खुद का अच्छा सहयोग देकर लक्ष्य की प्राप्ति करता है।

What Is The Meaning Of Teamwork

क्यों जरूरी है Teamwork

टीम वर्क को लेकर बहुत सी कहावतो का इस्तेमाल किया जाता है। क्योंकि ये बात भी झूठी नहीं है की अकेला व्यक्ति ज्यादा कुछ नही कर सकता। एक अकेला इंसान अपनी मेहनत से कई बुलंदियों को हासिल तो कर सकता है, लेकिन वही अगर दूसरी तरफ अपको अलग अलग कौशल वाले व्यक्तियो का साथ मिल जाता हैं। तो वह कार्य बहुत सफलतापूर्वक और कम समय में पूरा हो जाता है।

इसी तरह आज के समय में छोटी कंपनी से लेकर बड़ी कंपनी ने टीम वर्क के मूल मंत्र को अपनी कंपनी में अपना रखा है। क्योंकि कंपनी में आई हुई चुनौतियों का सामना अगर विभिन्न प्रकार के व्यक्ति एक साथ मिल के करेंगे । तो उस कार्य का हल और उसका परिणाम एक सफलतापूर्वक मिल सकेगा ।

इसी कारण के चलते एक टीम वर्क का होना असल जिंदगी में बेहद जरूरी हैं। क्योंकि हर व्यवसाय के अंदर बहुत सी मुश्किले आती हैं। जिसका सामना अगर टीम वर्क में रह कर किया जाए। तो वह रास्ता भी आसान हो जाता है। और सभी व्यक्ति का एक लक्ष्य होने के कारण मुश्किल आसान हो जाती है। और कंपनी कामयाबी हासिल करती हैं।
What Is The Meaning Of Teamwork

How To Be More Self-Disciplined In 2023 | Positive Lifestyle Changes

Teamwork का महत्व –

असल जिंदगी में लोगो ने यह जाना है। की एक अकेले व्यक्ति द्वारा किया गया काम और वही काम टीम में किया जाए। तो दोनो में समय और कौशल का अंतर होता है। इसी कारण से सिर्फ खेल कूद में ही टीम की आवश्यकता नहीं होती बल्कि असल जिंदगी में भी टीम वर्क में कार्य करने से मनुष्य बहुत कुछ सीख सकता है और अपने कार्य को ऊंचाइयों तक पहुंचा सकता है। टीम वर्क महत्वपूर्ण होने के कुछ कारण-

नए विचारों को प्रकट करना

टीम में कार्य करने से व्यक्ति नए नए लोगो के साथ तालमेल बड़ता हैं जिसमे हर व्यक्ति कोई न कोई अलग कौशल के साथ कार्य कर रहा होता है। जिससे सामने वाले व्यक्ति को कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता है।

आत्मविश्वास बढ़ाएँ

जैसे की हम वर्षो से देखते आए है की टीम में रह रहे व्यक्ति एक दूसरे के साथ काफी सकारात्मक महसूस करते है। जिससे वह एक परिवार के रूप में एक संग होकर कार्य को पूरा करते हैं। और ऐसा करने से कार्य जल्दी पूरा होता है। और कहा जाता है की एक सकारात्मक टीम के साथ लिया गया निर्णय टीम का आत्मविश्वास को बढाता है l

What Is The Meaning Of Teamwork

Introvert Life: Being More Confident, A Lifestyle Upgrade

Teamwork को करे कामयाब

टीम वर्क के बारे हमने बहुत कुछ जाना है और पढ़ा भी है। लेकिन एक सवाल यह आता है की किस तरह बनाई गई टीम को असल जिंदगी में कामयाब किया जाए। यह काम तो बेहद आसान है की एक टीम को खड़ा कर दिया जाये , लेकिन जब तक उस बनाई गई टीम को हम कार्य नही बताएंगे, उन्हे मोटिवेट नही करेंगे तब तक वह अपने कौशल का इस्तेमाल ही नही करेंगे। और कार्य वही के वही रद्द हो जायेगा।

तो ऐसे में टीम वर्क के दौरान व्यक्ति को अपनी टीम का कार्य अवश्य पता होना चाहिए।

टीम बनाने का मिशन जानना।

बनाई गई टीम में टीम के व्यक्ति को अपनी टीम कार्य का विषय और मिशन जरूर पता होना चाहिए। जिससे वह अपने द्वारा अपने कार्य में स्किल्स का अच्छे से इस्तेमाल कर सके। और साथ ही टीम को अपने द्वारा किए जाने वाले कार्य की अवश्य पूरी जानकारी होनी चाहिए।

टीम सदस्यों में होना चाहिए भरोसा

टीम वर्क में कार्य के दौरान एक दूसरे पर भरोसा होना बेहद जरूरी हैं। जिससे किसी भी कार्य में कोई बाधा नहीं होगी और कार्य को आसानी से पूर्ण किया जायेगा। इसी लिए टीम को हर समय समय पे एक दूसरे से तालमेल बनाना चाहिए। जिससे भरोसा होने लगेगा और समूह कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण होगा।

समय समय पर करनी चाहिए प्रशंसा।

टीम में कर रहे व्यक्ति को उनके दिए गए कार्य पर अच्छे प्रदर्शन पर उनको सराहना अवश्य करनी चाहिए। जिससे वह और वहा खड़े व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा उत्पन हो, और वो आने वाले कार्य को और भी अच्छे तरह उसे पूरा करे।

Self Reflection – The Key Of Success (आत्मचिंतन)

निष्कर्ष – What Is The Meaning Of Teamwork

बड़ी बड़ी कंपनियाँ अपनी कंपनी की कामयाबी के लिए हर क्षेत्र से कौशल व्यक्तियों को ढूंढ कर उन्हे नौकरी देकर टीम तैयार करती है। क्योंकि कॉरपोरेट कंपनी को यह बात अच्छी तरह पता है अगर कोई भी कार्य वह टीम में करेंगे तो वह कार्य सफलतापूर्वक पूरा होगा। इसी तरह अगर हमारे पास एक अच्छी टीम है तो हम किसी भी कार्य को बिना किसी मुश्किल के पूरा कर सकते है।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

What Is The Meaning Of Teamwork Read More »

Advance Meditation Art Of Living

Advance Meditation Art Of Living

Loading

Advance Meditation Art Of Living – आज की तेज़-तर्रार दुनिया में, शांति और आंतरिक शांति के क्षण ढूंढना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। निरंतर हलचल के बीच, ध्यान का अभ्यास सद्भाव, ध्यान और स्वयं के साथ गहरा संबंध चाहने वालों के लिए एक मार्गदर्शक प्रकाश के रूप में उभरा है। ध्यान, विभिन्न संस्कृतियों में जड़ों वाली एक प्राचीन प्रथा है, जो आधुनिक युग में समग्र कल्याण की आधारशिला बन गई है। यह लेख ध्यान के सार, इसके लाभों और ध्यान अभ्यास को विकसित करने के लिए व्यावहारिक सुझावों की पड़ताल करता है जो व्यक्तियों को अधिक जागरूक और संतुलित जीवन जीने के लिए सशक्त बनाता है।

Advance Meditation Art Of Living

ध्यान क्या है – What Is Meditation

ध्यान, ध्यान और चिंतन की एक कला है जो हजारों साल पुरानी है। बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और ताओवाद जैसी विविध परंपराओं में निहित, यह दुनिया भर में लाखों लोगों द्वारा अपनाए गए धर्मनिरपेक्ष और गैर-धार्मिक रूपों में विकसित हुआ है। इसके मूल में, ध्यान में मन को गहन विश्राम और उच्च जागरूकता की स्थिति प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित करना शामिल है।

How To Be More Self-Disciplined In 2023 | Positive Lifestyle Changes

ध्यान के लाभ – Benefits of Meditation

तनाव कम करना:- ध्यान के सबसे गहरे लाभों में से एक इसकी तनाव के स्तर को कम करने की क्षमता है। वर्तमान क्षण पर ध्यान केंद्रित करने और ध्यान भटकाने से ध्यान मन और तंत्रिका तंत्र को शांत करता है, जिससे तनाव हार्मोन में कमी आती है।

बेहतर फोकस और एकाग्रता:- नियमित ध्यान अभ्यास फोकस और एकाग्रता सहित संज्ञानात्मक क्षमताओं को बढ़ाता है। जैसे-जैसे दिमाग वर्तमान में रहने में अधिक कुशल हो जाता है, कार्यों को बढ़ी हुई दक्षता के साथ पूरा करना आसान हो जाता है।

भावनात्मक कल्याण में वृद्धि: -ध्यान व्यक्तियों को बिना किसी निर्णय के अपनी भावनाओं को स्वीकार करने और संसाधित करने में मदद करता है। भावनात्मक बुद्धिमत्ता विकसित करके, ध्यान करने वाले चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का संयम और करुणा के साथ जवाब दे सकते हैं।

बेहतर नींद:– अनिद्रा और नींद से संबंधित समस्याएं अक्सर बेचैन दिमाग से उत्पन्न होती हैं। ध्यान विश्राम को बढ़ावा देता है, जिससे आरामदेह नींद प्राप्त करना आसान हो जाता है।

आत्म-जागरूकता में वृद्धि: -ध्यान आत्मनिरीक्षण का अवसर प्रदान करता है, जिससे व्यक्तियों को अपने विचारों, व्यवहार और पैटर्न की गहरी समझ प्राप्त करने की अनुमति मिलती है।

Introvert Life: Being More Confident, A Lifestyle Upgrade

art of meditation

ध्यान की कला- Advance Meditation Art Of Living

अपना स्थान खोजें: -ध्यान के लिए एक शांत और आरामदायक स्थान चुनें। यह आपके घर में एक आरामदायक कोना, प्रकृति में एक शांत स्थान या एक समर्पित ध्यान कक्ष हो सकता है।

एक समय निर्धारित करें: -प्रत्येक दिन एक विशिष्ट समय निर्धारित करके नियमित ध्यान दिनचर्या स्थापित करें। ध्यान के लाभ प्राप्त करने के लिए निरंतरता महत्वपूर्ण है।

आरामदायक मुद्रा:– सीधी पीठ के साथ आराम से बैठें। आप कुशन या कुर्सी पर, फर्श पर क्रॉस लेग करके या घुटनों के बल बैठ सकते हैं। मुख्य बात ऐसी स्थिति ढूंढना है जो असुविधा के बिना सतर्कता को बढ़ावा दे।

सांस पर ध्यान दें:-अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करें क्योंकि यह स्वाभाविक रूप से अंदर और बाहर बहती है। यह वर्तमान क्षण के लिए एक लंगर के रूप में कार्य करता है, मन को भटकने से रोकता है।

विचारों को प्रवाहित होने दें:-जैसे ही विचार उठते हैं, बिना निर्णय किए उन्हें स्वीकार करें, और धीरे से अपना ध्यान अपनी सांस या फोकस के चुने हुए बिंदु पर पुनर्निर्देशित करें।

निर्देशित ध्यान से शुरुआत करें:– शुरुआती लोगों के लिए, अनुभवी प्रशिक्षकों के नेतृत्व में निर्देशित ध्यान सत्र बेहद मददगार हो सकते हैं। वे संरचित मार्गदर्शन प्रदान करते हैं और ध्यान में परिवर्तन को आसान बनाते हैं।

धैर्य अपनाएं:– ध्यान एक यात्रा है, और इसके पूर्ण लाभों का अनुभव करने में समय लगता है। अपने प्रति धैर्य रखें और कथित चुनौतियों से निराश होने से बचें।

Self Reflection – The Key Of Success (आत्मचिंतन)

निष्कर्ष

ध्यान की कला आंतरिक अन्वेषण और व्यक्तिगत विकास का द्वार खोलती है। ध्यान अभ्यास को बढ़ावा देने के लिए समय समर्पित करके, व्यक्ति आत्म-जागरूकता, भावनात्मक कल्याण और मानसिक स्पष्टता की एक उच्च भावना विकसित कर सकते हैं। ध्यान के सिद्धांतों को अपनाने से हमें अधिक पूर्ण जीवन जीने की शक्ति मिलती है, जिससे न केवल हमारे भीतर बल्कि दूसरों के साथ हमारे संबंधों और हमारे आस-पास की दुनिया में भी सद्भाव बढ़ता है। तो एक गहरी सांस लें, अपना केंद्र ढूंढें और ध्यान की सुंदर कला के माध्यम से एक परिवर्तनकारी यात्रा पर निकल पड़ें।

Instagram- Click Here

Read More – क्लिक करे

ये भी पढ़े –

1. 4 धाम तीर्थस्थल का इतिहास

2. 12 ज्योतिर्लिंग (Jyotirlinga) का इतिहास: पवित्र स्थलों की रोचक यात्रा

3. Amogh Lila Prabhu – अमोघ लीला प्रभु

4. Iskon Temple – इस्कॉन मंदिर का उद्देश्य

5. काली माता मंदिर गोरखपुर धरती चीर कर बाहर निकली थी मां काली की प्रतिमा, सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

Advance Meditation Art Of Living Read More »

aadhi dhoop aadhi chhaya

मुझसे चतुर कौन ? (Aadhi Dhoop Aadhi Chhaya)

Loading

Aadhi Dhoop Aadhi Chhaya -एक प्रसिद्ध किस्से का जोड़ है जो भारतीय लोककथाओं और किस्सों में से एक है। यह कहानियां मुग़ल सम्राट अकबर और उनके बहुत चतुर मंत्री वीरबल के बीच हुई हस्तियाँ हैं। इन कहानियों के माध्यम से भारतीय संस्कृति में चतुरता, नैतिकता और समझदारी के मूल्यों का संदेश दिया जाता है। कहानियों में, महाराजा अकबर एक समझदार और न्यायप्रिय सम्राट थे जो अपने राज्य को उत्तमता और समृद्धि की ओर अग्रसर बनाना चाहते थे। उन्हें बीरबल की सलाह और मदद पर बड़ा भरोसा था। वीरबल एक चतुर, समझदार और नैतिक व्यक्ति थे जिनके पास हर समस्या का एक अद्भुत समाधान था।

अकबर और बीरबल से जुडी एक कहानी प्रस्तुत करने जा रहे है यह कहानी हम सभी को एक सीख प्रदान करेगी l

aadhi dhoop aadhi chhaya

आधी धुप – आधी छाया (Aadhi Dhoop Aadhi Chhaya)

अकबर के राज्य में सब खुशहाल चल रहा था , शारी प्रजा खुसहाली से जिंदगी व्यतीत कर रही थी , एक दिन अकबर और बीरबल के बीच हलकी नोक झोक हो गई बीरबल ने कहा मेरे से चतुर कोई नही है अकबर का कहना था तुम चतुर नही हो , बहस करते करते बात यहाँ तक आ गई की शर्त लग गई बीरबल ने कहा मुझे आप सभी ने खोज लिया तो मान लूगा की मैं चतुर नही हूँ l

जिस बजह से बीरबल, अकबर का राज्य छोड़ कर चला गया, कुछ समय तक तो अकबर अपने राज्य को चलाता रहा लेकिन बीरबल अपनी बुद्धिमानी के लिए प्रसिद्ध था , अकबर कोई काम करने से पहले बीरबल से सलाह लेता था , धीरे धीरे अकबर के राज्य में दिक्कते होने लगी , अकबर भी परेशान होने लगा , कोई भी परेशानी अति तो अकबर के बाकी सलाहकार बीरबल का नाम लेते और कहते बीरबल होता तो इस समस्या का समाधान जरुर होता l

How To Be More Self-Disciplined In 2023 | Positive Lifestyle Changes

परन्तु अकबर भी मजबूर था , क्योंकि बीरबल को कोई भी नही खोज नही सकता , बीरबल खुद ही अपने आप को अकबर के सामने पेस कर सकता था , बीरबल इतना समझदार था , बीरबल के न होने से अकबर भी दुखी था और प्रजा भी परेशान थी , किसी की परेशानी का कोई समाधान नही मिल पा रहा था , प्रजा ने परेशान हो कर अकबर से गुहार लगाई , बीरबल को खोजा जाये , अकबर भी यही चाहता था , बीरबल को खोजा जाये लेकिन बीरबल को खोजना नामुमकिन था ,

एक दिन अकबर ने अपने राज्य में एक सभा का आयोजन किया , सभी मंत्री , सेनापति , प्रजा , रानियों , जितने भी सलाहकार थे सभी को बुलाया गया और बीरबल की तलास के लिए सेना का गठन किया गया , और सेना का भेजा गया , पूरी सेना उसी समय प्रस्थान कर गई , पूरे राज्य में बीरबल को खोजा गया , आस पास की जगह पर खोजा गया , लेकिन बीरबल की कोई खबर नही मिली , अकबर ने जंगल गुफाये सब खोजी परन्तु वीरबल की कोई खबर नही मिली , हार परेशान हो कर साडी सेना लौट आई , अब अकबर और परेशान होने लगे , अब क्या किया जाये बीरबल को कहा से खोजा जाये l

कुछ समय युही कट गया लेकिन सभी बीरबल को खोजने की सोचते रहते थे , सोचते सोचते कई दिन बीत गए , पर कोई उपाय नही मिला , अकबर की सेना रोज खोज में निकलती और शाम को वापस लौट आती , एक दिन सभा में सभी मंत्री उपस्थित थे , तभी अकबर को एक मंत्री ने एक उपाय बताया , उपाय सुनकर अकबर भी प्रशन्न हुआ , और अकबर ने सभी को यह उपाय बताया तो सभी ने तुरंत इस उपाय को उपयोग में लेन की मांग करी l

वजीर कौन होगा – समस्या क्या है ?

उपाय – उपाय यह था की पूरे राज्य में खबर फैला दो जो व्यक्ति अपने घर से आधी धुप – आधी छाया में राज्य दरबार में आयेगा उसे सोने चांदी के उपहार दिए जायेगे ,

सेना द्वारा पूरे राज्य में खबर फैला दी गई और सारी प्रजा अपने अपने उपाय करने लगी लेकिन शर्त एसी थी , जिसका कोई उपाय था ही नही , सारी प्रजा लगातार अपने कुछ न कुछ करती रहती थी , पर यह शर्त पूरी नही हो पाई, उधर बीरबल के कानो तक भी यह खबर पहुची , बीरबल एक गरीब व्यक्ति के घर रहता था , वह इतना गरीब था एक समय का खाना भी बहुत मुस्किल से नसीब होता था , बीरबल से यह देखा नही जाता था , तब बीरबल अपने पास से उसको खाने के लिए कुछ ले आता था , उधर अकबर भी परेशान हो चुका था ,यह उपाय भी काम नही कर रहा था l

उधर बीरबल जिसके साथ रह रहा था उसकी गरीबी देख कर परेशान हो गया था , तब उसने अकबर की शर्त का उपाय उस आदमी को बताया , उसे बोला किसी को बताना नही ये शर्त का उपाय किसने दिया है , बीरबल ने उस व्यक्ति को बताया बान बाली चारपाई को अपने सर पर रख कर जाओ , इस तरह चारपाई में आधी धुप – आधी छाया रहेगी , इससे तुम जीत जाओगे और तुमको धन मिलेगा जिससे तुम अपना जीवन यापन कर सकते हो l

वह व्यक्ति अपने सर पर चारपाई रख कर राजा के पास गया , और बोला देखो आपकी शर्त को पूरा किया है अब मेरा पुरुष्कार मुझे दे दिया जाये , शर्त का समाधान देख कर अकबर को तुरंत विश्वास हो गया, यह उपाय बीरबल ने ही दिया है , तुरंत अकबर ने उस व्यक्ति को हिरासत में ले लिए उससे पूछा गया किसने दिया यह उपाय , लेकिन बीरबल ने मना किया हुआ था किसी को बताना नही,

Power Of Truth- सच की शक्ति

जब उस व्यक्ति ने नही बताया ,तब अकबर ने उसे सजा देने का आदेश दे दिया , तुरंत उसे सूली पर चड़ा दिया जाये , घबराहट के कारण उस व्यक्ति ने बीरबल का पता बात दिया , अकबर के आदेश पर बीरबल को लाया गया और अकबर ने बीरबल से माफ़ी मांगी और अपना स्थान ग्रहण करने के लिए कहा , बीरबल को भी अहसास हुआ की मैंने भी अहंकार में गलत निर्णय लिया है , अंत में राजा ने उस व्यक्ति को उसका पुरुष्कार दिया और बीरबल को उसका पद वापस किया, अकबर और बीरबल का अहंकार भी ख़तम हुआ l

निष्कर्ष – Aadhi Dhoop Aadhi Chhaya

कहानी से हमें यह सिख मिलती है कभी कभी अधिक चालाकी भी हमें परेशानी में डाल सकती है , यही बीरबल के साथ हुआ , बीरबल को लगा की मैं नही खोजा जाउगा परन्तु अकबर ने शर्त ही इस हिसाब से रखी थी की इसका उत्तर सिर्फ बीरबल को ही पता होगा , इसलिए चतुराई हमेश जरुरत के हिसाब से करनी चाहिए , ताकि तुम खुद उसके सिकार न बनो , बीरबल भी अपनी अधिक चतुराई की बजह से राज्य से बहार रहा और अंत में पकड़ा भी गया l

मुझसे चतुर कौन ? (Aadhi Dhoop Aadhi Chhaya) Read More »